विश्वव्यापी चेतावनी

डिपार्टमेंट आफ स्टेट ने यह विश्वव्यापी चेतावनी दुनिया भर में अमेरिकी नागरिकों और हितों के खिलाफ जारी आतंकवादी कार्रवाई और हिंसा के जारी रहने के खतरे के बारे में जानकारी अपडेट करने के लिए की है। अमेरिकी नागरिकों को सतर्कता के एक उच्च स्तर को बनाए रखने और अपनी सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए उचित कदम उठाने की हम याद दिला रहे हैं। यह सुरक्षा खतरों और दुनिया भर में आतंकवादी गतिविधियों के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान करने वाली वर्ल्डवाईड कॉशन (विश्वव्यापी चेतावनी) दिनांकित 24 जनवरी, 2012, का स्थान लेता है।

डिपार्टमेंट आफ स्टेट आतंकवादी हमलों, प्रदर्शनों, और विदेशों में अमेरिकी नागरिकों और हितों के खिलाफ अन्य हिंसक कार्रवाइयों के निरंतर खतरे के बारे में चिंतित रहता है। वर्तमान जानकारी से पता चलता है कि अल कायदा, उससे संबद्ध संगठन, और अन्य आतंकवादी संगठन यूरोप, एशिया, अफ्रीका, और मध्य पूर्व सहित कई क्षेत्रों में अमेरिका के हितों के खिलाफ आतंकवादी हमलों की योजना बना रहे हैं। ये हमलों में आत्मघाती कार्यवाही, हत्या, अपहरण, विमान अपहरण और बम विस्फोट सहित युक्तियों की एक विस्तृत विविधता अपनाते हैं।

चरमपंथी पारंपरिक या गैर पारंपरिक हथियारों का इस्तेमाल करने का चयन कर सकते हैं और सरकारी और निजी हितों दोनों को लक्ष्य बना सकते हैं। इस तरह के लक्ष्यों के उदाहरणों में उच्च स्तरीय खेल की प्रतियोगिताएं, आवासीय क्षेत्र, व्यापार कार्यालय, होटल, क्लब, रेस्तरां, पूजा स्थल, स्कूल, सार्वजनिक स्थल और संयुक्त राज्य अमेरिका तथा विदेश, दोनों के पर्यटन स्थल शामिल है जहां अमेरिकी नागरिक  छुट्टियों के दौरान  बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं।

अमेरिकी नागरिकों को सार्वजनिक परिवहन प्रणाली और पर्यटन के अन्य बुनियादी ढांचे पर हमला करने की आतंकवादियों की क्षमता की याद दिलाते हैं। चरमपंथियों ने मेट्रो, रेल प्रणाली, विमानन, और समुद्री सेवाओं को निशाना बनाया और उन पर हमले का प्रयास किया है। अतीत में, इस प्रकार के ऐसे हमले मास्को, लंदन, मैड्रिड, ग्लासगो, और न्यूयॉर्क शहर में हुए हैं।

यूरोप: वर्तमान जानकारी के अनुसार अल-कायदा, उससे संबद्ध संगठन, और अन्य आतंकवादी समूह अमेरिका और यूरोप में पश्चिमी हितों के खिलाफ आतंकवादी हमलों की लगातार योजना बना रहे हैं। यूरोपीय सरकारों ने आतंकवादी हमलों से बचाव के लिए कार्रवाई की है, और कुछ ने बढ़े खतरे की स्थिति के बारे में सार्वजनिक रूप से बात की है। पिछले कई वर्षों में विभिन्न यूरोपीय शहरों में हमलों की योजना बनाई गई है या हमले हुए हैं।

मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका:  विश्वसनीय जानकारी इंगित करती है कि आतंकवादी समूह मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका में अमेरिकी हितों के खिलाफ हमले जारी रखने के प्रयास में हैं। उदाहरण के लिए, इराक खतरनाक और अप्रत्याशित बना हुआ है। अमेरिकी सैन्य बलों को 31 दिसंबर 2011 को वापस ले लिया गया था लेकिन अमेरिकी नागरिकों के खिलाफ हमलों की धमकी, जिसमें अपहरण और आतंकवादी हिंसा शामिल है, की जारी रहने की उम्मीद है। हमले के तरीकों में सड़क के किनारे तात्कालिक विस्फोटक उपकरणों, मोर्टार, और शूटिंग को शामिल किया गया है। आतंकवादी संगठन यमन में सक्रिय हैं जिसमें अल-कायदा शामिल है जो अरब प्रायद्वीप (एक्यूएपी) में है। 18 मार्च को तैज़ में एक अमेरिकी नागरिक पर हमला कर उसे मार डाला गया और प्रेस रिपोर्ट करता है कि एक्यूएपी ने इसकी जिम्मेदारी ली है। आतंकवादी गतिविधियों की वजह से यमन में सुरक्षा खतरे का स्तर उच्च रहता है और अमेरिकी सरकार, नागरिकों, सुविधाओं, व्यापार और कथित अमेरिकी और पश्चिमी हितों पर संभावित हमलों के बारे में अत्यधिक चिंतित रहती है। अमेरिकी नागरिकों को अतीत में भी लेबनान में कई आतंकवादी हमलों का लक्ष्य किया गया है (हालांकि हाल ही में कोई नहीं) और वहाँ पश्चिम विरोधी आतंकवादी गतिविधियों का मौजूदा खतरा जारी है। अल्जीरिया में  विशेष रूप से देश के कबीलाई क्षेत्र में नियमित रूप से आतंकवादी हमले होते रहते हैं। अतीत में  आतंकवादियों ने सऊदी अरब और यमन दोनों में तेल प्रसंस्करण की सुविधाओं को लक्षित किया है। ईरान में कुछ तत्व संयुक्त राज्य अमेरिका के विरोधी बने हुए हैं। अमेरिकी नागरिकों को सतर्क रहना चाहिए और उन्हें पता होना चाहिए कि ईरानी सरकार अमेरिकी नागरिकों के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों पर अधिक आक्रामक ध्यान केंद्रित कर सकती है।

पिछले साल अरब वसंत की घटनाओं ने मिस्र, लीबिया, यमन, बहरीन, और सीरिया सहित मध्य पूर्व के देशों को प्रभावित किया था  जिससे बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन और नागरिक अशांति हुई थी। अमेरिकी नागरिकों को चेतावनी दी जाती है की शांतिपूर्ण प्रदर्शन का इरादा रखने वाले प्रदर्शन भी हिंसक संघर्ष में तब्दील हो सकते हैं। अमेरिकी नागरिकों को हम यह भी याद दिला रहे हैं कि प्रदर्शन और दंगे कम चेतावनी या बिना किसी चेतावनी के भी हो सकते हैं। अमेरिकी नागरिकों से यदि संभव हो तो प्रदर्शन के क्षेत्रों से बचने के लिए और अगर प्रदर्शन क्षेत्र के आसपास हों तो सावधानी बरतने का आग्रह किया जाता है।

अफ्रीका: अफ्रीका में और इसके चारों ओर बड़ी संख्या मे अल-कायदा के गुर्गों और अन्य चरमपंथियों का सक्रिय होना माना जाता है। अमेरिका के द्वारा नामित विदेशी आतंकवादी संगठन अल-शबाब के अमीर और अल-कायदा के नेता अयमन अल-ज़वाहिरी ने दोनों संगठनों के गठबंधन की घोषणा फरवरी 2012  में  की है। अल-शबाब, सोमालिया में लगातार हत्या, आत्मघाती हमले और नागरिक आबादी वाले क्षेत्रों में अंधाधुंध हमले कर रहा है। वर्ष 2011 के अंतिम तिमाही में सोमालिया में टैन्जिशनल फेडरल गवर्नमेंट (टीएफजी) और अफ्रिकन यूनियन (एयू) की पीस किपिंग फोर्सेस (शांति सेना) पर आतंकवादी हमलों में मोगादिशू के आसपास के विभिन्न जिलों में कई नागरिक मारे गए हैं, साथ ही पिछले साल भर में केन्या में कम से कम 17 हमले, जिसमे ग्रेनेड या विस्फोटक उपकरण भी शामिल थे, पूर्वी अफ्रीका और दुनिया भर में आतंकवादी हमलों से संभावित खतरों पर प्रकाश डालते हैं। इसके अलावा, ने इस्लामी मेघहर्ब (एक्यूआईेएम) की भूमि में  आतंकवादी संगठन अल-कायदा ने साहेल भर में (जिसमे माली, मॉरिटानिया, और नाइजर भी शामिल है) पश्चिमी ठिकानों पर हमले के अपने इरादे की घोषणा की है। इसने अपहरण का प्रयास, अपहरण, और दक्षिणी अल्जीरिया सहित क्षेत्र भर में कई पश्चिमी लोगों की हत्या की जिम्मेदारी ली है। उत्तरी नाइजीरिया में उपद्रवी दल बाको हरम के रूप में शिथिल संगठित समूह मुख्य रूप से सरकारी बलों और निर्दोष नागरिकों को लक्षित कर महत्वपूर्ण तात्कालिक विस्फोटक डिवाइस से और आत्मघाती बम विस्फोट कर रहे हैं; अबुजा की राजधानी में संयुक्त राष्ट्र की इमारत पर पिछले साल के हमले को बाद से हमलों में वृद्धि हुई है। नाइजीरिया के राष्ट्रपति ने अतिवादी समूहों की गतिविधियों के जवाब में कुछ क्षेत्रों में आपातकाल की घोषणा कर दी थी।

अमेरिकी नागरिकों को हार्न आफ अफ्रीका के निकट या दक्षिणी लाल सागर में समुद्री यात्रा के बारे में सोचने से पहले अत्यंत सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि यहाँ समुद्री डाकुओं द्वारा फिरौती के लिए सशस्त्र हमले, डकैती, और अपहरण हुए हैं। व्यापारी जहाजों को सोमाली जल क्षेत्र से अपहृत किया जाना जारी है जबकि दूसरों को सुदूर अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में सोमालिया, यमन, और केन्या के तट से 1000 समुद्री मील की दूरी से अपहृत कर लिया गया है।

यूएस गवर्नमन्ट मेरिटाइम अथॉरिटीज (अमेरिकी सरकार के समुद्री अधिकारियों) ने नाविकों को मोगादिशू के बंदरगाह से बचने की सलाह दी है और सोमालिया के तट से कम से कम 200 समुद्री मील की दूरी पर रहने के लिए कहा है। इसके अलावा जब वे हार्न आफ अफ्रीका के आसपास या लाल समुद्र से गुजरते हैं तो जहाजों को काफिले में यात्रा करने और हर समय अच्छा संचार बनाए रखने की दृढ़ता से सिफारिश की जाती है। वाणिज्यिक यात्री जहाजों पर यात्रा करने वाले अमेरिकी नागरिकों को अपहरण की घटनाओं से बचने के सावधानियों के बारे में शिपिंग या क्रूज जहाज कंपनी के साथ परामर्श करना चाहिए। व्यावसायिक जहाजों को समुद्री परामर्श, आत्म सुरक्षा उपायों, और इस क्षेत्र में नौसैनिक बलों के बारे में जानकारी के लिए डिपार्टमेंट आप ट्रांसपोर्टेशन मेरीटाइम (समुद्री ढुलाई प्रशासन विभाग) के हार्न आफ अफ्रीका पाइरेसी पेज फॉर इन्फॉरमेशन ऑन मेरिटाइम एडवाइजरिज, की समीक्षा करनी चाहिए। दक्षिणी लाल सागर, अदन की खाड़ी, और हिंद महासागर में समुद्री डकैती के बारे में जानकारी के लिए हमारे इंटरनेशनल मेरिटाइम पाइरेसी फैक्ट शीट फॉर इंफॉर्मेशन ऑन पाइरेसी (अंतरराष्ट्रीय समुद्री डकैती तथ्य पत्र) की समीक्षा करें।

दक्षिण एशिया: अमेरिकी सरकार को यह सूचना मिलना जारी है कि दक्षिण एशिया में आतंकवादी समूह संभवतः अमेरिका की सरकारी सुविधाओं, अमेरिकी नागरिकों या अमेरिकी हितों के खिलाफ इस क्षेत्र में हमलों की योजना बना रहे होंगे। इस क्षेत्र में अल-कायदा, तालिबान तत्व, लश्कर ए तैयबा, स्वदेशी सांप्रदायिक समूह, और अन्य आतंकी संगठनों की मौजूदगी, जिनमें से कई अमेरिकी सरकार की फॉरेन टेरर ऑर्गेनाइजेशन (एफटीओज्) की सूची में हैं, अमेरिकी नागरिकों के लिए एक संभावित खतरा बनें हुए हैं। आतंकवादियों और उनके समर्थकों ने अमेरिकी नागरिक या पश्चिमी लोगों की  एकत्रित होने के या उनके अक्सर जाने के ठिकानों पर हमले करने की अपनी सम्मति और क्षमता का प्रदर्शन किया है। इनकी गतिविधियों में वाहन से होने वाले विस्फोटक हमले, तात्कालिक विस्फोट करने वाले उपकरणों से हमले, हत्या, वाहन अपहरण, रॉकेट से हमले, अन्य हमले, या अपहरण शामिल हो सकते हैं लेकिन ये यहीं तक सीमित नहीं हैं।

इस तरह के हमले पाकिस्तान सहित अनेक दक्षिण एशियाई राज्यों  में हुए हैं जहां बड़ी संख्या में अतिवादी समूह अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों के नागरिकों और हितों तथा पाकिस्तानी सरकार और सैन्य/कानून लागू कराने वाले कर्मियों को लक्षित करते हुए निशाने पर ले रहें हैं। आत्मघाती बम विस्फोट से नियमित आधार पर देश भर में हमले हो रहें हैं। अक्सर इस तरह के हमले सरकार के अधिकारियों पर लक्षित होते हैं जैसे पुलिस चौकियाँ और सैन्य प्रतिष्ठानों के साथ ही मस्जिदों, और खरीदारी के क्षेत्र। अमेरिकी नागरिकों के अपहरण में भी वृद्धि हो रही हैं। अफगानिस्तान का कोई हिस्सा हिंसा से निरापद नहीं है और किसी भी समय या तो लक्षित या अंधाधुंध तरीके से अमेरिका और अन्य पश्चिमी नागरिकों के खिलाफ विरोधी कृत्यों की संभावना देश भर में मौजूद है। तालिबान और अल-कायदा के आतंकवादी नेटवर्क के तत्वों के साथ हीं इंटरनेशनल सेक्युरिटी एसिस्टेंस फोर्स (अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल सैन्य अभियान) (आईएसएएफ) के विरोधी अन्य समूह सक्रिय रहते हैं। देश भर में अमेरिकी नागरिकों और नॉन-गवर्नमेंटल ऑरगेनाइजेशन (गैर सरकारी संगठन) (एनजीओ) के कार्यकर्ताओं के अपहरण और हत्या की आशंका बनी हुई है। भारत लगातार आतंकवादी और विद्रोही गतिविधियों का अनुभव कर रहा है जो प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से अमेरिकी नागरिकों को प्रभावित कर सकता है। एंटी वेस्टर्न टेररिस्ट ग्रुप (पश्चिमी विरोधी आतंकवादी समूह) जिसमें से कुछ अमेरिकी सरकार के नामित फॉरेन टेररिस्ट ऑर्गेनाइजेशन (विदेशी आतंकवादी संगठन) की सूची में हैं, जैसे की इस्लामिस्ट एक्ट्रिमिस्ट ग्रुप (इस्लामी उग्रवादी समूह) हरकत उल जिहाद ए इस्लामी सहित हरकत उल मुजाहिदीन, इंडियन मुजाहिदीन, जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा भारत में सक्रिय हैं। आतंकवादियों ने भारत में विलासिता पूर्ण और अन्य होटलों, ट्रेनों, रेलवे स्टेशनों, बाजारों, सिनेमाघरों, मस्जिदों और बड़े शहरी क्षेत्रों में रेस्तराओं सहित अक्सर पश्चिमी लोगो द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले सार्वजनिक स्थलों को निशाना बनाया है।

मध्य एशिया: आतंकवादी गुटों के समर्थक जैसे उजबेकिस्तान का इस्लामी आंदोलन, अल-कायदा, इस्लामी जिहाद यूनियन, और पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामी आंदोलन मध्य एशिया में सक्रिय रहते हैं। इन समूहों ने अमेरिकी विरोधी भावना व्यक्त की है और ये अमेरिकी सरकार के हितों को नुकसान पहुँचाने के लिए प्रयास कर सकते हैं।

——————————
आपके जाने से पहले

——————————

डिपार्टमेंट आफ स्टेट विदेशों में रहने वाले या विदेश यात्रा करने की योजना बना रहे अमेरिकी नागरिकों को  स्मार्ट ट्रैवलर इनरोलमेंट प्रोग्राम (एसटीईपी) में नामांकन कराने के लिए प्रोत्साहित करता है। जब आप एसटीईपी में नामाकंन कराते हैं, हम महत्वपूर्ण सुरक्षा और सुरक्षा घोषणाओं के बारे मे आपकी जानकारी को अद्यतन रख सकते हैं। नामांकन एक आपात की स्थिति में आपसे संपर्क करने के लिए दूतावास के कार्य को आसान कर देगा। आपको एसटीईपी में अपनी सभी जानकारी अद्यतन रखना याद रखना चाहिए; यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जब आप एक मौजूदा फोन नंबर और ईमेल पते को शामिल करने के लिए नामाकंन कराते हैं या अपनी जानकारी को अद्यतन करते हैं।

अमेरिकी नागरिकों को स्थानीय घटनाओं के बारे में पता होना चाहिए और उन्हें उनके निजी सुरक्षा के लिए उचित कदम उठाने तथा दृढ़ता से सतर्कता के एक उच्च स्तर को बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। अतिरिक्त जानकारी के लिए, कृपया हमारी वेबसाइट http://travel.state.govपर “ए सेफ ट्रिप अब्राड” (विदेश में सुरक्षित यात्रा)  को देखें।

दुनिया भर में अमेरिकी सरकार की सुविधाएँ सतर्कता के उच्च स्तर पर रहती हैं। ये सुविधाएं सार्वजनिक सेवाओं को अस्थायी रूप से बंद करने या समय समय पर उनकी सुरक्षा मुद्रा का आकलन करने के लिए उन्हें निलंबित कर सकती हैं। उन मामलों में अमेरिकी दूतावास और कांसुलेट, अमेरिकी नागरिकों को आपात सेवाएं प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। विदेशों में अमेरिकी नागरिकों को स्थानीय समाचार पर नजर रखने और नजदीकी अमेरिकी दूतावास या कांसुलेट के साथ संपर्क बनाए रखने का आग्रह किया जाता है।

विदेश में रहने वाले अमेरिकी नागरिकों पर मंडरा रहे संभावित सुरक्षा खतरे के बारे में जैसे-जैसे डिपार्टमेंट आफ स्टेट जानकारी प्राप्त करता है, यह कांसुलर इन्फार्मेशन प्रोग्राम (कांसुलर जानकारी कार्यक्रम) के दस्तावेजों के माध्यम से खतरे की विश्वसनीय जानकारी के बारे में  बताता है जिसमें  ट्रैवल वार्निंग (यात्रा चेतावनी), ट्रैवल अलर्ट (यात्रा सावधानी), कंट्री स्पेसिफिक इंफार्मेशन (देश विशेष जानकारी), और इमर्जेन्सी मैसेज़ेज (आपात संदेश) शामिल हैं, जो सभी ब्यूरो ऑफ कांसुलर अफेयर्स की वेबसाइट http://travel.state.gov पर उपलब्ध है। यात्रा की जानकारी को आसानी से उपलब्ध कराने के लिए हमारा मुफ्त स्मार्ट ट्रैवलर आईफोन ऐप्प डाउनलोड कर सकते हैं या हमारी वेबसाइट को बुकमार्क करके यात्रा जानकारी से आप अद्यतन रह सकते हैं। ट्वीटर पर हमारा अनसरण करें और साथ ही फेसबुक के पृष्ठ ब्यूरो ऑफ कांसुलर अफेयर्स पर भी हमें देखें।

इंटरनेट पर जानकारी के अलावा, यात्री संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में टोल फ्री नंबर 1-888-407-4747 पर या दूसरे देशों से एक नियमित सशुल्क फोन लाइन नंबर 1-202-501-4444 पर फोन करके सुरक्षा की स्थिति पर अद्यतन जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ये फोन नंबर सोमवार से शुक्रवार (अमेरिका की संघीय छुट्टियों को छोड़ कर), ईस्टर्न समय सुबह 8.00 बजे से शाम 8.00 बजे तक उपलब्ध हैं।