फुलब्राइट फैलोशिप आवेदन सीजन 2021-2022 के उद्घाटन की घोषणा

यूनाइटेड स्टेट्स-इंडिया एजुकेशनल फाउंडेशन (USIEF)फुलब्राइट-नेहरू और अन्य फुलब्राइट फैलोशिप के लिए अपनी वार्षिक प्रतियोगिता आरंभ करने की घोषणा करता है। इस तरह के आदान-प्रदान ने भारत और संयुक्त राज्य के लोगों को फेलो की शैक्षणिकअनुसंधानशिक्षण और पेशेवर क्षमता को समृद्ध करने वाले अवसरों को करीब लाने में मदद की है।

 यूएसआईईएफ के अलुम्नी एक्सचेंज और छात्रवृत्ति कार्यक्रमों के पूर्व छात्रों ने कृषिकलाव्यवसायजलवायुशिक्षापर्यावरणमानविकी और सामाजिक विज्ञानसार्वजनिक स्वास्थ्य और विज्ञान और प्रौद्योगिकी सहित कई क्षेत्रों में मजबूत नेतृत्व का प्रदर्शन किया है। उत्कृष्ट भारतीय छात्रोंशिक्षाविदोंशिक्षकोंनीति निर्माताओंप्रशासकों और पेशेवरों को इसमें आवेदन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। 

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में फुलब्राइट-नेहरू मास्टर्स के फैलो करण भोला ने कहा, “इस कार्यक्रम ने मुझे उच्च शिक्षा में वैश्विक रुझानों को बारीकी से समझने करने में मदद की। इस जानकारी के साथअब मेरे पास भारतीय उच्च शिक्षा की कुछ प्रमुख चुनौतियोंजैसे कि विविधतासमानता और समावेश को लेकर तुलनात्मक दृष्टिकोण है इस कार्यक्रम ने मुझे भारत में उच्च शिक्षा में परिवर्तन लाने के लिए कौशल और स्पष्टता प्रदान की है।’’

पायल डेफुलब्राइट-नेहरू डॉक्टोरल रिसर्च फेलो ने कहा, “मैंने एमआईटी एनर्जी इनिशिएटिव के यूनिवर्सल एनर्जी एक्सेस ग्रुप में जो शोध किया हैउससे ऊर्जा क्षेत्र के लिए भविष्य के नियामक और नीतिगत दिशानिर्देशों की रूपरेखा बनाने की क्षमता प्राप्त होगी। एमआईटी और हार्वर्ड केनेडी स्कूल और बोस्टन में एक छात्र-केंद्रित वातावरण दोनों में विशाल शैक्षणिक संसाधनों के माध्यम सेमैंने जो ज्ञान प्राप्त किया वह मेरे अनुसंधान उद्देश्यों से कहीं अधिक था। 

फुलब्राइट-नेहरू शैक्षणिक और व्यावसायिक एक्सचेंज 2017 की स्कॉलर अनुराधा मारवाह कहती हैं, “मिनेसोटा विश्वविद्यालय में अध्यापन अमेरिकी क्लासरूम की संस्कृति से एक महान परिचय था। मिनियापोलिस में थिएटर के एक नए रूप से परिचय केवल आकस्मिक रूप से हुआ था। अमेरिका में इस अवसर ने मुझे एक प्राचीन ग्रीक नाटक के साथ राजस्थान के गांवों में प्रवेश दिलाया। श्रोताओं के साथ आने वाली लंबी चर्चाएं मेरे लिए आज की दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय आदान-प्रदान के मूल्यों की पुष्टि करती हैं।“ 

2021-2022 में USIEF को भारतीय आवेदकों को लगभग 100 फुलब्राइट-नेहरू फैलोशिप प्रस्तुत करने की उम्मीद है। फेलोशिप विवरण USIEF वेबसाइट (www.usief.org.in) पर पोस्ट किया जाता है और आवेदन की पहली अंतिम तिथि 15 मई, 2020 है। आवेदक अपने प्रश्न  ip@usief.org.in पर भेज सकते हैं या USIEF के नए में कार्यालयों में से किसी एक से संपर्क कर सकते हैं। दिल्लीचेन्नईहैदराबादकोलकाता या मुंबई।