परमाणु आतंकवाद से लड़ने के लिए नई दिल्ली कार्यान्वयन और मूल्यांकन समूह की मीटिंग की वैश्विक पहल का निष्कर्ष

परमाणु आतंकवाद से लड़ने के लिए नई दिल्ली कार्यान्वयन और मूल्यांकन समूह की मीटिंग की वैश्विक पहल का निष्कर्ष

भारतीय परमाणु ऊर्जा विभाग के सहयोग से भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा आयोजित बैठक में 152 तकनीकी विशेषज्ञ और परमाणु आतंकवाद से लड़ने के लिए ग्लोबल इनीशिएटिव (जीआईसीएनटी) के 41 भागीदार देशों के नीति प्रतिनिधि तथा अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के आधिकारिक समीक्षक नई दिल्ली में 8-10 फरवरी, 2017 को जीआईसीएनटी के कार्यान्वयन और मूल्यांकन समूह (आईएजी) मीटिंग के लिए एकत्रित हुए।

आईएजी मीटिंग में नीति, जटिल और उभरती परमाणु सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए भागीदारों की क्षमता बढ़ाने के लिए तकनीकी और परिचालन विशेषज्ञों को संगठित करने की जीआईसीएन की अद्भुत क्षमता पर बल दिया गया। भारत के विदेश सचिव डा. एस. जयशंकर के स्वागत भाषण में वैश्विक परमाणु अप्रसार और परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग के प्रति भारत की प्रतिबद्धता का उल्लेख किया गया। डा. एस. जयशंकर ने जीआईसीएन को परमाणु सुरक्षा मुद्दों पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ भारत की संलग्नता का महत्वपूर्ण हिस्सा बताया तथा इनीशिएटिव के विशेषज्ञों के वैश्विक नेटवर्क बनाने तथा मजबूत करने के सहयोगात्मक दृष्टिकोण की सराहना की।

और पढ़ें