उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में राजदूत हेली का वक्तव्य

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी मिशन
प्रेस और पब्लिक डिप्लोमेसी कार्यालय
सितंबर 4, 2017

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि राजदूत निकी हेली ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उत्तर कोरिया पर एक आपात ब्रीफिंग के दौरान अपना वक्तव्य दिया। राजदूत हेली तथा जापान, फ्रांस, ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया के उनके समकक्षों ने उत्तर कोरिया के ताजा परमाणु परीक्षण की प्रतिक्रिया में आपात बैठक बुलाए जाने का आग्रह किया था।

“सुरक्षा परिषद के सदस्यों को मैं कहना चाहूंगी: अब बहुत हो चुका…वक्त आ गया है कि इस संकट के समाधान के लिए सभी कूटनीतिक साधनों का इस्तेमाल कर लिया जाए, और इसका मतलब है यहां संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शीघ्रता से कठोरतम संभव उपायों को कार्यान्वित करना। सिर्फ कठोरतम प्रतिबंध ही हमें कूटनीति के सहारे इस समस्या का समाधान करने में सक्षम बनाएंगे। हम लंबे समय तक इस समस्या को टालते रहे हैं। अब और समय नहीं बचा है।”

“कुछ पक्षों से आया तथाकथित रोक-के-बदले-रोक का प्रस्ताव अपमानजनक है। जब एक दुष्ट शासन के पास परमाणु हथियार हो और एक अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल ने आपको निशाना बना रखा हो, आप अपनी सुरक्षा कम करने वाले कदम नहीं उठाते। कोई भी ऐसा नहीं करेगा। हम निश्चय ही ऐसा नहीं करेंगे।” “यह संकट संयुक्त राष्ट्र से भी आगे तक जाता है। अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ व्यवसाय करने वाले हर देश को एक ऐसे देश के रूप में लेगा जो उसके लापरवाह और खतरनाक परमाणु इरादों को मदद पहुंचा रहा है। इससे बड़ा दांव कुछ नहीं हो सकता है। कदम अभी उठाए जाने चाहिए। आधे उपायों और विफल वार्ताओं के चौबीस साल काफी हैं।”