भारत-अमेरिका के आतंकवाद प्रतिरोध पर कार्यसमूह की 15वीं बैठक पर संयुक्त वक्तव्य

मीडिया नोट
प्रवक्ता कार्यालय
अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
वाशिंगटन, डीसी
27 मार्च 2018

भारत-अमेरिका के आतंकवाद प्रतिरोध पर कार्यसमूह की 15वीं बैठक पर संयुक्त वक्तव्य

निम्नलिखित वक्तव्य का पाठ्य भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकारों द्वारा भारत-अमेरिका के आतंकवाद प्रतिरोध पर कार्यसमूह की 15वीं बैठक के मौके पर प्रकाशित किया गया:

पाठ्य शुरु होता है:

भारत-अमेरिका के आतंकवाद प्रतिरोध पर कार्यसमूह की 15वीं बैठक नई दिल्ली में 27 मार्च 2018 को आयोजित की गई।  विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्रीमान महावीर सिंघवी और स्टेट डिपार्टमेंट की आतंकवाद प्रतिरोध के लिए प्रमुख उप-संयोजक, एलीना एल. रोमानोव्स्की के नेतृत्व में, भारतीय और अमेरिकी प्रतिनिधिमंडलों ने दोनों देशों के बीच आतंकवाद प्रतिरोध सहयोग पर महत्वपूर्ण प्रगति हासिल की।

कार्यसमूह ने दक्षिण एशिया क्षेत्र में सीमा पार आतंकवाद सहित, दुनिया भर में और अपने-अपने क्षेत्रों में आतंकवादी समूहों द्वारा प्रस्तुत किये जाने वाले खतरों की समीक्षा की।  दोनों पक्ष दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकवादी समूहों और व्यक्तियों के बारे में जानकारी के साझाकरण को मजबूत करने और क्षेत्रीय और वैश्विक आतंकवादी संगठनों के वित्तपोषण और संचालन का सामना करने के प्रयासों पर विचार विमर्श करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।  दोनों पक्षों ने विदेशी आतंकवादी लड़ाकों द्वारा प्रस्तुत किये जाने वाले खतरों का सामना करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों पर चर्चा की।  कार्यसमूह ने न्याय, कानून प्रवर्तन, और आतंकवाद का सामना करने के लिए क्षमता निर्माण प्रयासों और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद संकल्प 2396 पर अंतरराष्ट्रीय और द्विपक्षीय सहयोग पर भी चर्चा की।

दिसंबर 2017 में अमेरिकी-भारत आतंकवाद प्रतिरोधी वार्ता के उदघाटन के बाद, प्रतिनिधिमंडलों ने घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी पदनामों के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए चल रहे प्रयासों पर विचार-विमर्श किया।  संयुक्त राज्य अमेरिका 2019 में संयुक्त कार्यसमूह की अगली बैठक की मेजबानी करेगा।